Sahara India Refund
sahara india sahara india moneyMa Sahara India News sahara india pariwar

Sahara India Refund: सहारा इंडिया में फंसे पैसे सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा आदेश.

Sahara India Refund: सहारा इंडिया को विभिन्न स्कीमों में उपभोक्ताओं के जमा पैसे के भुगतान को लेकर दायर की गई 4 हजार से ज्यादा हस्तक्षेप याचिकाओं पर आप पटना हाई कोर्ट 22 जून को सुनवाई होगी। या मामला नाथ जी संदीप कुमार की एकलपीठ के समाज सोमवार को सुनवाई के लिए सूचीविधि था। पिछली सुनवाई में हाई कोर्ट ने सहारा के संस्थापक सुब्रत राय को अदालत में 16 मई को किसी भी हाल में उपस्थित होने का निर्देश दिया है इसके साथ ही पटना हाईकोर्ट ने बिहार एवं उत्तर प्रदेश के डीजीपी समेत दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को हर हाल में सुब्रत राय को 16 मई को 12:30 बजे हाई कोर्ट में प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है। सुब्रत राय ने पटना हाई कोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट द्वारा 13 मई को पटना हाई कोर्ट में आदेश पर 19 मई तक अंतरिम रोक लगाने दी गई है।

TelegramJoin

Sahara India Refund: एक समय देश की सबसे बड़ी कंपनियों में तू मार रही सहारा इंडिया Sahara India Refund मैं लाखों लोगों ने अपने करोड़ों रुपए निवेश किए। अपने मेहनत एवं जिंदगी भर की कमाई निवेश किया था लेकिन कंपनी के काम करने के गलत तरीकों एवं प्रदर्शित ना होने के कारण एवं वितरित यम अनियमितताओं के चलते इसमें कई लोगों की गाढ़ी कमाई का पैसा सालों से फंसा हुआ है। सहारा में फसे आपने पैसे Sahara India Refund को लेकर लाखों लोगों काफी परेशान है जिसके बाद लोगों ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

सहारा में फसा हुआ पैसा इस दिन मिलेगा हो गया ऐलान ये भी पढ़े ।

विभिन्न स्कीमों में उपभोक्ताओं के जमा पैसे के भुगतान को लेकर दयार के गाए 4000 से ज्यादा हास्य याचिकाओं पर आओ पटना हाई कोर्ट में 22 जून को सुनवाई होगी। यह मामला न्यायाधीश संदीप कुमार की एक लपेट के सोमवार को सुनाई के लिए सूचीबद्ध था। हाई कोर्ट ने सहारा के संस्थापक सुब्रत राय को अदालत में 16 मई को किसी भी हाल में उपस्थित होने का निर्देश दिया था इसके साथ ही पटना हाईकोर्ट ने बिहार एवं उत्तर प्रदेश के डीजीपी समेत दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को हर हाल में सुब्रत राय को 16 मई को 12:30 बजे हाई कोर्ट में प्रस्तुत करने का निर्देश दिया।

Sahara India  Money Refund 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.